Monday, September 6, 2010

दामन नहीं छुड़ाएँगे इस ज़िदगी से हम...

बहुत दिनों से अम्माजी की रचनाओं की लगातार माँग पर भी मैं पाठकों को रचनाएँ नहीं दे पाई उसके लिए क्षमा चाहती हूँ, अब मेरी किताबें युगांडा से मेरे पास आ गई हैं अब आप लोगों को शिकायत का मौका नहीं दूँगी, पेश है ये गज़ल इस आशा से कि पंसद आएगी ...

दामन नहीं छुड़ाएँगे इस ज़िदगी से हम
रिश्ते सभी निभाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

बख्शी हैं कितनी नेमतें परवरदिगार ने
भरपूर हज़ उठाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

जो लोग भूल बैठे हैं मतलब हयात का
उन सबको ही मिलाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

मफ़हूम ज़िंदगी का समझ लेंगे जिस घड़ी
खिलवाड़ कर ना पाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

मुहकम यक़ीन और - अमल के बिन
कैसे नज़र मिलाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

बख्शी- प्रदत्त, मुहकम- अटल, नेंमते- वरदान, मुसल्सल- निरन्तर, अमल- कार्यन्वयन, हज़-सुख, मफ़हूम-सन्दर्भ, हयात-ज़ीवन

26 comments:

  1. बख्शी हैं कितनी नेमतें परवरदिगार ने
    भरपूर हज़ उठाएँगे इस ज़िंदगी से हम।
    शेर अच्छा लगा बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा सोच प्रस्तुत करती रचना।

    हिन्दी का प्रचार राष्ट्रीयता का प्रचार है।

    हिंदी और अर्थव्यवस्था, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

    ReplyDelete
  3. दामन नहीं छुड़ाएँगे इस ज़िदगी से हम
    रिश्ते सभी निभाएँगे इस ज़िंदगी से हम ..

    बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल है ... सच है की रिश्तों को निभाना चाहिए ...

    ReplyDelete
  4. सराहनीय लेखन........
    +++++++++++++++++++
    चिठ्ठाकारी के लिए, मुझे आप पर गर्व।
    मंगलमय हो आपके, हेतु ज्योति का पर्व॥
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  5. Aapke blo par pahali bar aaya hun. Phir aunga.Plz. visit my blog.

    ReplyDelete
  6. आपके जीवन में बारबार खुशियों का भानु उदय हो ।
    नववर्ष 2011 बन्धुवर, ऐसा मंगलमय हो ।
    very very happy NEW YEAR 2011
    आपको नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें |
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. Dil ko chu gayi rachna
    http://amrendra-shukla.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. सबसे पहले तो 90 साल वाली दादी माँ को मेरा सादर नमन.
    उनकी यह पंक्तियाँ यद् रहेंगी.
    मफ़हूम ज़िंदगी का समझ लेंगे जिस घड़ी
    खिलवाड़ कर ना पाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

    ReplyDelete
  9. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति|
    होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  11. कुछ लोग जीते जी इतिहास रच जाते हैं
    कुछ लोग मर कर इतिहास बनाते हैं
    और कुछ लोग जीते जी मार दिये जाते हैं
    फिर इतिहास खुद उनसे बनता हैं
    आशा है की आगे भी मुझे असे ही नई पोस्ट पढने को मिलेंगी
    आपका ब्लॉग पसंद आया...इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-



    बहुत मार्मिक रचना..बहुत सुन्दर...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  12. बहुत खूबसूरत गज़ल ...यहाँ आना अच्छा लगा

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 29 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. जो लोग भूल बैठे हैं मतलब हयात का
    उन सबको ही मिलाएँगे इस ज़िंदगी से हम।
    vada kijiye ab kahi n jayenge ...

    ReplyDelete
  15. Bahut umda rachana..
    जो लोग भूल बैठे हैं मतलब हयात का
    उन सबको ही मिलाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

    Mujhe ek sher yaad aa raha hai...
    SHAAKH SE TOOT KAR GIRNE KI SAZA DE MUJHKO,
    EK PATTA HI TO HUN ,KYUN NA HAWA DE MUJHKO.

    Videsh me rah kar bhi apni sanskriti ko nahi bhooli hain aap...aapko sadhuwad.

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन प्रस्तुति...मन को भा गईं..शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर। आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया। आना सार्थक हुआ। अब आना जाना बना रहेगा।

    ReplyDelete
  18. जो लोग भूल बैठे हैं मतलब हयात का
    उन सबको ही मिलाएँगे इस ज़िंदगी से हम।

    क्या बात है, बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  19. बहुत ही बढ़िया..
    मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है : Blind Devotion

    ReplyDelete
  20. Dadi maa ke charno me Pranam,

    Ab gazal ki bat .. to har ek sher sidha dil co chuu gaya.

    ReplyDelete