Sunday, March 15, 2009

पता नहीं ये दिल की बातें दिल से कब हो जाती हैं...


कुछ पाठकों ने इस ब्लॉग को पसंद किया है और अनुसरणकर्ता में अपना नाम दिया ना जाने मुझसे कैसे उनका नाम हट गया... मन बहुत दुखी हुआ... और मैं उनको देख भी नहीं पाई कि कौन-कौन थे.. अगर वे लोग फिर से अपना लिंक देंगे तो मुझे खुशी होगी....
9
पता नहीं ये दिल की बातें दिल से कब हो जाती हैं
दिल के भीतर जाकर फिर वे ख़्वाबों में खो जाती हैं।

मुझसे था तो उसका रिश्ता, लेकिन उसने माना कब
चर्चाएँ इसकी भी आख़िर घर-घर में हो जाती है।

मुतवातिर नाकामी से हम कैसे खुश रह सकते हैं
इच्छाएँ मरने लगती हैं, उम्मीदें सो जाती हैं।

रैन-दिवस पगलाया-सा मैं आहें भरता रहता हूँ
आँसू की धाराएँ बह-बह, गालों को धो जाती हैं।

समझ नहीं पाता है कोई दिल को क्या हो जाता है
दिल के किए को मेरी साँसे किसी तरह ढो जाती है।

लेखिका- लीलावती बंसल
प्रस्तुतकर्त्ता- भावना कुँअर
मुतवातिर-लगातार

40 comments:

  1. भावना जी अपने आप हटे होंगे

    कुछ दिन पहले ऐसा ही हुआ था

    फोओअर्स अपने काम कम हो गए थे

    या कहें काम आ गए थे

    यह तकनीक का फंडा था

    इसकी कहीं से फंडिंग नहीं थी।

    ReplyDelete
  2. dil ki baatein sirf dil hi jaan sakta hai........bahut sundar rachna.

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिखा आपने बधाई ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर !
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  5. समझ नहीं पाता है कोई दिल को क्या हो जाता है
    दिल के किए को मेरी साँसे किसी तरह ढो जाती है।
    अम्माजी ने कमाल का लिखा है...शब्दों में तारीफ किही नहीं जा सकती...बेमिसाल लेखन...
    नीरज

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  7. वाह लाजवाब !!! बहुत ही सुन्दर रचना ! पढ़वाने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुँदर लयबध्ध रचना है भावना जी - हो सके तो इसे आप स स्वर रीकार्ड करके मुझे भेज दीजिये
    हिन्दी युग्म के कवि सम्मेलन के लिये ..
    my E mail ID is : lavnis@gmail.com
    - लावण्या

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खूबसूरत ग़ज़लें हैं सभी की सभी ||

    मुझसे था तो उसका रिश्ता, लेकिन उसने माना कब
    चर्चाएँ इसकी भी आख़िर घर-घर में हो जाती है।

    वाह वाह....

    ReplyDelete
  10. समझ नहीं पाता है कोई दिल को क्या हो जाता है
    दिल के किए को मेरी साँसे किसी तरह ढो जाती है।

    बहुत ही शानदार !!!!!!!!

    ReplyDelete
  11. नायाब रचना. बहुत आभार पढवाने के लिये.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. मुझसे था तो उसका रिश्ता, लेकिन उसने माना कब
    चर्चाएँ इसकी भी आख़िर घर-घर में हो जाती है

    -बहुत अच्छा शे'र है। अपना सा लगता है

    ReplyDelete
  13. मुतवातिर नाकामी से हम कैसे खुश रह सकते हैं
    इच्छाएँ मरने लगती हैं, उम्मीदें सो जाती हैं।

    आपका ब्लॉग बहुत सुन्दर खजाने से भरा हुवा है सब खीचें चले आयेंगे.........
    सुन्दर ग़ज़ल है

    ReplyDelete
  14. अम्मा जी की इतनी सुन्दर रचना पढ़वाने के लिए भावना जी आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. ब्लोगिंग जगत में स्वागत है ।
    लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
    सुन्दर रचना के लिए बधाई
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    www.rachanabharti.blogspot.com
    कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
    www.swapnil98.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. ब्लौग-जगत में आपका स्वागत है. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  17. पता नहीं ये दिल की बातें दिल से कब हो जाती हैं
    दिल के भीतर जाकर फिर वे ख़्वाबों में खो जाती हैं।

    रचना अच्छी लगी।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. jandar blog, shandar rachna. narayan narayan

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर भाव है..शब्दों के प्रयोग ने प्रभावित किया......

    ReplyDelete
  20. मुतवातिर नाकामी से हम कैसे खुश रह सकते हैं
    इच्छाएँ मरने लगती हैं, उम्मीदें सो जाती हैं।

    दिलचस्प......ये शेर खासा पसंद आया है....

    ReplyDelete
  21. Achchha likha hai,
    kabhi yahan bhi aayen
    http://jabhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. maa ki amulya kavitao.n se parichay karaa ke aap bahut bada ehasaan kar rahi hai ham jaiso par

    bahut sundar kavita..!

    ReplyDelete
  23. Sundar abhivyakti, apni 'Follower' ki samasya ke samadhan ke liye is link ko aajma kar dekhiye.

    http://tips-hindi.blogspot.com/2009/02/blog-post_6334.html

    ReplyDelete
  24. जो दिल रखते हैं, वे ही सच्ची बातें कर सकते है,

    सपनों में सही, परन्तु अच्छी बातें कर सकते हैं।


    बेदिल वाले, प्रीत निभाना क्या जानें?

    दिल की हाल, दिलवाले ही पहचानें।

    ReplyDelete
  25. ब्लाग संसार में आपका स्वागत है। लेखन में निरंतरता बनाये रखकर हिन्दी भाषा के विकास में अपना योगदान दें।
    नये रचनात्मक ब्लाग शब्दकार को shabdkar@gmail.com पर रचनायें भेज सहयोग करें।
    रायटोक्रेट कुमारेन्द्र

    ReplyDelete
  26. रैन-दिवस पगलाया-सा मैं आहें भरता रहता हूँ
    आँसू की धाराएँ बह-बह, गालों को धो जाती हैं।

    बेहतरीन रचना पढ़वाने के लिए आपको हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  27. मुझसे था तो उसका रिश्ता, लेकिन उसने माना कब
    चर्चाएँ इसकी भी आख़िर घर-घर में हो जाती है।
    उम्दा लाइने हैं .सुन्दर रचना पढ़वाने के लिए आपको धन्यवाद .

    ReplyDelete
  28. Bhavna ji ,
    bahut achchhee gajal hai mata ji kee ...
    khaskar ye panktiyan....
    समझ नहीं पाता है कोई दिल को क्या हो जाता है
    दिल के किए को मेरी साँसे किसी तरह ढो जाती है।
    meree badhai ....pahunchayen.
    Poonam

    ReplyDelete
  29. बहुत अच्छी रचना है । भाव और विचारों का बेहतर समन्वय है । इससे अभिव्यक्ति प्रखर हो गई है ।-

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  30. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  31. बडी बहर में गजल कहन काफी मुकिश्‍ल होता है, लेकिन इसके बावजूद लीलावती बंसल जी ने अच्‍छी गजल कही है।

    ReplyDelete
  32. hi, it is really nice to go through your blog...well written...by the way which typing tool are you using for typing in Hindi...?

    as far as my knowledge is concern, now a days typing in an Indian Language is not a big task.. recently i was searching for the user friendly Indian language typing tool and found ... " quillpad " do you use the same...?

    heard that it is much more superior than the Google's indic transliteration..!?

    Expressing our views in our own mother tongue is a great experience... so it is our duty to save,protect,popularize and communicate in our own mother tongue...

    try this, www.quillpad. in

    Jai...Ho.....

    ReplyDelete
  33. आप सभी पाठको का तहे दिल से शुक्रिया...

    ReplyDelete